Dog rescue

इस श्वान के घायल होने की सूचना दोपहर में रंगोली गेस्ट हाउस के पास से आई थी। राजेश भाई मौके पर उपचार करने गए। पता चला उसे खरिष्ट (खुजली) है। कमर भी टूटी है। लोग उसे जीव आश्रय ले जाने का दबाव बना रहे थे। जीव आश्रय के हालातों से परिचित राजेश भाई ने असमर्थता जताई और उपचार दे कर चले आये। अभी साढ़े 8 बजे जब आश्रय से निज आश्रय की ओर निकलने को हुआ तो सामने जो श्वान था उसकी वही दशा थी जिसके बारे में कुछ देर पहले राजेश भाई से सुन चुका था। गाड़ी की लाइट सीधे उसके चेहरे पर पड़ी और न जाने क्या लिखा था उसके माथे पर मोटरसाइकिल का स्टैंड लगा और उन्हें उठा कर अंदर ले आया। भूखे थे। दो रोटियां खाई। तिवारी जी और बेचे भाई ने एक चरही में उनका बिस्तर लगाया और मैंने लिटा दिया। 🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.